Top Stories

Top stories under Type

नोटबंदी दानवी कृत्य : ममता

by admin on Tue, 11/07/2017 - 19:27

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को नोटबंदी को लेकर केंद्र सरकार की कड़ी निंदा की। ममता ने नोटबंदी को दानवी कार्य बताया और सत्तारूढ़ पार्टी द्वारा निहित स्वार्थो के लिए काले धन को बदलकर सफेद करने के लिए नोटबंदी लागू करने का आरोप लगाया।

ममता बनर्जी ने सोमवार को नोटबंदी के खिलाफ प्रदर्शन में अपने ट्विटर अकाउंट पर तस्वीर को बदलकर काला कर दिया।

तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ने अपने पार्टी नेताओं को नोटबंदी के खिलाफ इसकी पहली वर्षगांठ पर मंगलवार को 'ब्लैक डे' मनाने का निर्देश दिया।

''मैंने विवादित ढांचा तुड़वाया था, इसकी जिम्मेदारी लेता हूं, चाहे तो फांसी दे दो''

by admin on Mon, 11/06/2017 - 15:09

कानपुरः श्रीराम जन्म भूमि न्यास के अध्यक्ष रामविलास वेदांती ने अयोध्या में 6 दिसंबर 1992 को विवादित ढांचा गिराए जाने की जिम्मेदारी लेते हुए कहा कि मैंने ही ये ढांचा गिरवाया था, ये बात मैंने कोर्ट में भी कही थी। अब फिर से कह रहा हूं, चाहे तो मुझे फांसी दे दो। वे कानपुर के किदवई नगर स्थित संत सम्मेलन में पहुंचे थे। इस सम्मेलन में जगतगुरु शंकराचार्य वासुदेव सरस्वती महाराज, स्वामी चिन्मयानंद, साध्वी प्राची समेत कई महामंडलेश्वर मौजूद थे। इस दौरान राम मंदिर के मुद्दे पर संतो ने विस्तर से चर्चा हुई।

टाटा दे रही है 1898 आदिवासी बालाओं को रोजगार, अर्जुन मुन्‍डा ने हरी झंडी दिखाई

by admin on Wed, 09/28/2022 - 09:18

रांची:  टाटा समूह की कंपनी टाटा इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी ने ह्यूमन ट्रैफिकिंग के लिए बदनाम झारखंड के खूंटी, सरायकेला-खरसावां, सिमडेगा और पश्चिम सिंहभूम जिले में स्पेशल रिक्रूटमेंट कैंप लगाकर 1898 लड़कियों को रोजगार देने का निर्णय लिया है। पहले बैच में चुनी गई 822 लड़कियों को मंगलवार को स्पेशल ट्रेन से रांची के हटिया स्टेशन से तमिलनाडु के हुसूर के लिए रवाना किया गया। केंद्रीय जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा ने इस स्पेशल ट्रेन को हरी झंडी दिखाई।

झारखंड में स्‍थानीय नीति बनना ही चाहिए : सेंगेल अभियान

by admin on Mon, 08/22/2022 - 22:04

सेंगेल अभियान के अध्‍यक्ष और पूर्व सांसद सालखन मुर्मू ने कहा कि झारखंड में स्थानीयता नीति बने। यह ठीक है। क्योंकि बाकी सभी राज्यों में यह लागू है। अनुच्छेद 19(3) के तहत यह संविधानसम्मत भी है।  इसीलिए मान्य झारखंड हाई कोर्ट ने जब 27 नवंबर 2002 को खतियान आधारित स्थानीयता नीति को खारिज किया था तो उसने स्थानीय भाषा संस्कृति को आधार बनाकर स्थानीयता को पुन: परिभाषित करने का निर्देश भी दिया था। 

बिहार में बवाल है; फिर नीतीशे कुमार है!

ताजा घटनाक्रम के बाद बिहार और केंद्र की राजनीति, भावी नये समीकरणों को लेकर तरह तरह के कयास लगाये जाने लगे हैं. जदयू के वजूद  पर भी सवाल उठने लगा. यह आशंका व्यक्त की जा रही है कि उसके कुछ लोग भाजपा में, कुछ राजद में चले जायेंगे. यानी जेडीयू में अब बचा ही क्या है? मगर सवाल तो यह भी मौजूं है कि जेडीयू था ही क्या? नीतीश कुमार को केंद्र में रख कर लालू विरोधी या कहें, सामाजिक न्याय विरोधी और संकीर्ण हिंदुत्ववादी ताकतों का जमावड़ा.

आदिवासी दिवस को संकल्‍प दिवस के तौर पर मनाया सेंगेल अभियान ने

by admin on Tue, 08/09/2022 - 22:13

रांची/जमशेदपुर: विश्‍व आदिवासी दिवस पूरे झारखंड में जोश खरोश के साथ मनाया गया। पटमदा और बोड़ाम प्रखंड मुख्यालय में आदिवासी सेंगेल अभियान के प्रखंड नेताओं/ कार्यकर्ताओं के साथ अध्‍यक्ष सालखन मूर्मू भी जुलूस में शामिल हुए। साथ में उनकी पत्नी सुमित्रा मुर्मू भी थीं। पटमदा में शहीद तिलका मुर्मू के मूर्ति में माला अर्पण के बाद बाजार में नारेबाजी करते हुए रैली निकाला गया। 

क्‍या नीतीश ने दूर की गोटी खेली है?

पटना: तो आखिरकर बिहार में खेला हो गया। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी और जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के बीच गठबंधन टूट चुका है। सीएम नीतीश कुमार को फिर से उनकी पार्टी पीएम मैटेरियल बताने लगी है। यानी सीएम नीतीश की वो पुरानी कसक जिसकी उन्होंने खुद तो कभी चर्चा नहीं की लेकिन उनके दल के नेता गाहे-बगाहे लगातार कहते रहे हैं। आरजेडी भी उन्हें पीएम पद का दावेदार बताती रही है। 2013 में भी जब बीजेपी ने नरेंद्र मोदी को पीएम पद का उम्मीदवार बताया था तो नीतीश ने इसका विरोध करते हुए बीजेपी से गठबंधन तोड़ लिया था। तब भी कहा गया था कि नीतीश भी पीएम मैटेरियल हैं। 2015 में बिहार में महागठबंधन की जीत के बाद भी उन्

मंजु उरांव के खिलाफ समाज का तुगलकी फरमान स्‍वीकार्य नहीं, विरोध होगा : सेंगेल

by admin on Thu, 08/04/2022 - 21:18

आदिवासी महिला मंजू उरांव (गुमला जिला) को  ट्रैक्टर से खेती करने के एवज में गांव वालों ने अंधविश्वास के आधार पर उनको ट्रैक्टर चलाने से मना किया, जुर्माना लगाया और बात नहीं मानने पर सामाजिक बहिष्कार करने का एकतरफा तुगलकी फरमान जारी किया है। जो संविधान कानून के खिलाफ है। स्त्री पुरुष की बराबरी के दर्जे के खिलाफ है और बिल्कुल एक अंधविश्वास वाला फरमान है। गलत है। आदिवासी सेंगेल अभियान, जिला पुलिस- प्रशासन और प्रदेश की सरकार से अविलंब मंजू उरांव को सुरक्षा और न्याय प्रदान करने की मांग करता है। बल्कि  उनको उनकी खेती और कृषि के विकास के लिए प्रोत्साहन और पूर्ण सहयोग भी सरकार को प्रदान करना चाहिए और

सरना धर्म कोड और द्रौपदी मुर्मू के समर्थन में सेंगेल का दिल्‍ली में प्रदर्शन

रांची/दिल्‍ली: दिल्ली के जंतर मंतर में 30 जून 2022 को आदिवासी सेंगेल (सशक्तिकरण) अभियान द्वारा आदिवासियों के प्रकृति पूजा धर्म - "सरना धर्म" की मान्यता हेतु धरनाप्रदर्शन किया गया। भारी बारिश के बावजूद प्रातः 10:00 बजे से दोपहर 2:30 बजे तक झारखंड ,बंगाल, उड़ीसा, असम, बिहार आदि से सेंगेल के नेता/ कार्यकर्ता लगभग एक हजार की संख्या में "सरना धर्म कोड देना होगा" की नारेबाजी करते हुए डटे रहे। धरना- प्रदर्शन में भीगते हुए सेंगेल के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद    सालखन मुर्मू ने सब को संबोधित किया।

सालखन ने रांची प्रशासन के खिलाफ राज्‍यपाल से शिकायत की

सेंगेल अभियान के अध्‍यक्ष व पूर्व सांसद सालखन मुर्मू ने रांची प्रशासन पर पक्षपात पूर्ण रवैया का आरोप लगाते हुए रांची के एसडीओ के खिलाफ कार्रवाई के लिए प्रदेश के राज्‍यपाल को पत्र लिखकर शिकायत की है और गंभीर कार्रवाई की मांग की है। पत्र में मांग की गई है: 

1)         कृपया आदिवासी सेंगेल अभियान द्वारा आपको प्रेषित 5 मई 2022 के पत्र का अवलोकन करें। जो संलग्न है। हमलोग 02.05.2022 को आपसे भेंट कर इस मामले पर आपको ज्ञापन पत्र प्रदान करना चाहते थे मगर आप आउट ऑफ स्टेशन थे।